ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ा: राजस्थान और MP में ही म्यूकरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के 985 मरीज; इसके अलावा 3 राज्य इसे महामारी घोषित कर चुके

कोरोना के बीच देश में एक और बीमारी ब्लैक फंगस हर दिन बढ़ती जा रही है। यही वजह है कि कई राज्य इसे महामारी घोषित कर चुके हैं। गुरुवार को ही तेलंगाना सरकार ने ब्लैक फंगस को महामारी एक्ट में नोटिफाई करने की जानकारी दी है। तेलांगना में ब्लैक फंगस के 80 मामले सामने आ चुके हैं। इससे पहले बुधवार को राजस्थान सरकार ने इसे महामारी घोषित किया था। वहीं हरियाणा सरकार पहले ही यह फैसला ले चुकी है।

कोरोना के बीच ब्लैक फंगस को लेकर सरकारों की चिंता की वजह यही है कि यह बीमारी तेजी से फैल रही है और संक्रमितों की आंखों की रोशनी जा रही है। यहां तक कि इससे कई मरीजों की मौत भी हो रही है।

प्रमुख राज्यों में ब्लैक फंगस की यह स्थिति है-

राजस्थान: प्रदेश में अब तक 400 लोग ब्लैक फंगस की वजह से आंखों की रोशनी खो चुके हैं। जयपुर में ही करीब 148 लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। जोधपुर में 100 मामले सामने आ चुके हैं। 30 केस बीकानेर के और बाकी अजमेर, कोटा और उदयपुर के हैं। स्थिति बिगड़ती देख सरकार ने बुधवार को ब्लैक फंगस को भी महामारी घोषित कर दिया। अब सरकार को ब्लैक फंगस के हर मामले, मौतों और दवा का हिसाब रखना होगा।

मध्यप्रदेश: अकेले भोपाल में ही बीते 27 दिन में ब्लैक फंगस के 239 मरीज आ चुके हैं। इलाज के दौरान 10 मरीजों की मौत हो चुकी है, जबकि 174 अस्पतालों में भर्ती हैं। इनमें से 129 मरीजों की सर्जरी हो चुकी है। हालांकि, सरकार भोपाल में सिर्फ 68 मरीज ही बता रही है। जबकि पूरे राज्य में 585 मरीज बताए जा रहे हैं। अभी तक इस बीमारी को महामारी घोषित नहीं किया गया है।

छत्तीसगढ़: प्रदेश में ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या 100 के करीब पहुंच चुकी है। अस्पतालों में 92 मरीजों का इलाज चल रहा है। सबसे ज्यादा 69 मरीज एम्स में भर्ती हैं। इनमें से 19 का ऑपरेशन हो चुका है। सरकार ने अभी तक इसे महामारी घोषित नहीं किया है।

हरियाणा:  177 मरीज मिले ब्लैक फंगस के पुरे प्रदेश में । इस संक्रमण को महामारी घोषित करने वाला हरियाणा पहला राज्य था।  स्टेरॉयड की बिक्री पर भी रोक लगा चुका है राज्य का औषधि विभाग।

दिल्ली: 300 के पार हो चुके है दिल्ली में ब्लैक फंगस के मरीज|  इंजेक्शन की कमी के कारण इन मरीजों को अब ऑपरेशन की जरुरत पढ़ रही हैं। एम्स में ही पिछले एक सप्ताह में 75 से 80 मरीज भर्ती हुए हैं। इनमें से 30 मरीजों की हालत काफी गंभीर है।

ब्लैक फंगस से ज्यादा खतरनाक व्हाइट फंगस, हाल ही में पटना में इसकी पुष्टी हुई है 

  •  पटना में अब व्हाइट फंगस का संक्रमण भी मुसीबत बन गया है । ब्लैक फंगस से कई गुना ज्यादा खतरनाक व्हाइट फंगस के 4 मरीज पिछले कुछ दिनों में यहां मिल चुके हैं।
  • व्हाइट फंगस फेफड़ों के संक्रमण की मुख्य वजह है। फेफड़ों के अलावा यह शरीर के कई अंग जैसे स्किन, नाखून, मुंह के अंदरुनी हिस्से आमाशय-आंत, किडनी, गुप्तांग और ब्रेन को भी संक्रमित करता है। यह भी नाक या मुंह के जरिए शरीर को संक्रमित करता है।
  • व्हाइट फंगस में फेफड़ों के संक्रमण के लक्षण HRCT में कोरोना के लक्षणों जैसे ही दिखते हैं। दोनों बीमारियों के लक्षणों में अंतर करना मुश्किल हो जाता है। जिन कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट की जरुरत पढ़ रही है, उनके फेफड़ों को व्हाइट फंगस संक्रमित कर सकता है।

कैसे फैल रहा है ब्लैक फंगस ??
स्टेरॉयड नमक दवा देने पर कोरोना संक्रमित वाले व्यक्तियों की इम्युनिटी कम हो जाती है। शुगर लेवल अचानक बढ़ जाता है। नाक, चेहरे और तलवे की स्किन सुन्न हो जाती है। आंख की नसों के पास फंगस इखट्ठा हो जाता है, जो केंद्रीय रेटाइनल धमनी का रक्त प्रवाह बंद कर देता है। इससे मरीजों की आंखों की रोशनी चली जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *